Kanya_Pujan navratri-2019: खास विधि से करें पूजन

0
7
Kanya_Pujan navratri-2019

Kanya_Pujan navratri-2019:अष्टमी और नवमी को कन्याओं की पूजा करने से आदिशक्ति मां दुर्गा होती हैं प्रशन्न

नई दिल्ली:LNN: Kanya_Pujan navratri-2019 चैत्र मास की प्रतिपदा के दिन से शुरू हुए नवरात्र नवमी के दिन सिद्धिदात्री के पूजन के साथ सफल होता है.

भारत में नवरात्रि के त्यौहार का विशेष महत्व माना जाता है.

Kanya_Pujan navratri-2019 में इन खास 9 दिनों में हर एक दिन का अपना अलग ही महत्व है.

इसमें सबसे ज्यादा अष्टमी और नवमी को मान्यता दी गई है.

इन दो दिनों में कन्याओं की पूजा करके इन्हें खाना खिलाने से आदिशक्ति मां दुर्गा प्रशन्न होती हैं.

2 साल से लेकर 10 साल की उम्र 9 कन्याओं को विधिवत तरीके से भोजन कराया जाता है.

उन्हें दक्षिणा देकर आशीर्वाद मांगा जाता है. इसके पूजन से दु:ख और दरिद्रता समाप्त हो जाती है.

यह भी पढ़ें:2019 Chaitra Navratri : नवरात्रि के उपवास से देवी दुर्गा होती हैं प्रसन्न

कई लोग छोटी- छोटी कन्याओं को खाना खिलाने से ही समझ लेते है कि उनका पूजन पूरा हो गया.

हालांकि ऐसा नही है इसकी एक विधि है जिसके अंतर्गत काम करने से ही आपको पूजा करने और व्रत रखने का पूरा फल मिलता है.

Kanya_Pujan navratri-2019: कन्याएं घर में प्रवेश करें तो पूरे परिवार सहित करना चाहिए स्वागत 

कन्याओं के पूजा की सही विधि यह है कि आपको एक दिन पहले विधिवत तरीके से 9 कन्याओं को भोज के लिए आमंत्रित करना चाहिए.

साथ एक बालक भी होना चाहिए इसे हनुमान जी या भैरव का रुप माना जाता है.

Kanya_Pujan navratri-2019 में जब कन्याएं घर में प्रवेश करें तो आपको पूरे परिवार सहित स्वागत करना चाहिए.

इसके साथ ही मां दुर्गा के नवनामों के जयकारे लगाने चाहिए.

Kanya_Pujan navratri-2019 में इसके बाद कन्याओं को साफ जगह पर में बिठाकर सभी के

पैरों को थाली में रखकर अपने हाथों से उनके पैर धोने चाहिए.

पैर छूकर आशीष लेना चाहिए. इसके बाद उनके माथे पर रोली या कुमकुम ले तिलक लगाना चाहिए.

फिर इन कन्याओं को पूरी श्रृद्दा के साथ उनकी इच्छा के अनुसार भोजन करवाना चाहिए.

इसके बाद आप दुर्गा स्वरुप इन कन्याओं को सामर्थ्‍य के अनुसार दक्षिणा, उपहार दें और उनके पुनः पैर छूकर आशीष लेना चाहिये.

पंडितों का कहना है कि Kanya_Pujan navratri-2019 में इस बार नवमी में रवि पुष्य योग का अद्भुत संयोग बन रहा है.

इसके चलते अष्टमी और नवमी की पूजा करना बेहद शुभ फलदायक माना जा रहा है.

Follow us on Facebook

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here