SBI का पहली तिमाही में 4,876 करोड़ का घाटा

0
13

SBI ने पिछले वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में 7,718.17 करोड़ रुपये का हुआ था घाटा

नई दिल्ली:LNN: SBI को अप्रैल-जून तिमाही में 4,875.85 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है.

SBI को जून तिमाही में मुनाफे का अनुमान जताया था लेकिन, SBI ने अनुमान के उलट लगातार तीसरी तिमाही नुकसान दर्ज किया.

SBI ने पिछले वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही में 7,718.17 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था जबकि एक वर्ष पहले इसी तिमाही में यानी जनवरी मार्च 2017 के दौरान उसे 2,005.53 करोड़ रुपये का लाभ हुआ था.

यह भी पढ़ें:karnataka model:विपक्ष एकजुट कर 2019 जीतने की कोशिश में कांग्रेस

वित्त वर्ष 2018 की दिसंबर तिमाही में बैंक को 2,416.40 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था. SBI को यह घाटा पहली बार हुआ था.

जून तिमाही में SBI को 21,798 करोड़ रुपये का नेट इंट्रेस्ट इनकम हुआ जो एक साल पहले इसी तिमाही में 17,606 करोड़ रुपये रहा था.

अप्रैल-जून के दौरान बैंक को को 7.1 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 58,813.18 करोड़ रुपये रहा जो पिछले साल इसी तिमाही में 54,905.40 करोड़ रुपये रहा था.

जून क्वॉर्टर के लिए बैंक ने 19,228.26 करोड़ रुपये की प्रविजनिंग की जो मार्च तिमाही के लिए 28,096.07 करोड़ और एक वर्ष पहले की इसी तिमाही में 8,929.48 करोड़ रुपये की थी.

वहीं, ग्रॉस नॉन-परफॉर्मिंग ऐसेट्स (सकल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां) घटकर कुल दिए कर्ज का 10.69 प्रतिशत पर आ गईं जो मार्च तिमाही में 10.91 प्रतिशत और पिछले वित्त वर्ष की जून तिमाही में 9.97 प्रतिशत थीं.

यह भी पढ़ें:Muzaffarpur shelter home rape case: सीबीआई ने दर्ज किया केस,बिहार की राजनीति गरमाई

वहीं, नेट नॉन-परफॉर्मिंग ऐसेटे्स की बात करें तो जून तिमाही में यह घटकर 5.29 प्रतिशत पर आ गईं जो मार्च तिमाही में 5.73 प्रतिशत जबकि पिछले वित्त वर्ष की जून तिमाही में 5.97 प्रतिशत थी.

बीएसई को दी गई जानकारी में SBI ने बताया कि उसने 1 नवंबर 2017 से लागू नई सैलरी के तहत बकाया रकम के लिए 30 जून 2018 तक 2,655.40 करोड़ रुपये की प्रविजनिंग की थी जो मार्च 1,659.41 करोड़ रुपये थी.

नैशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (एनसीएलटी) की ओर से रेजॉलुशन प्लान को हरी झंडी मिलने पर बैंक ने एक केस पर अप्रैल-जून 2018 के दौरान कानूनी सलाह के लिए 1,952.94 करोड़ रुपये खर्च किए.

Follow us on Facebook

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here