हृदय रोग से बचाता है जीवनशैली में परिवर्तन

0
24

हृदय रोग के प्रमुख कारण है धूम्रपान, शराब पीना, शारीरिक गतिविधियों में कमी और तनाव

हृदय रोग कई कारणों से होता है. इनमें से एक व्यक्ति की जीवन शैली है.

पहले लोगों को हृदय रोग नहीं होता था इसका कारण उनकी सरल और स्वस्थ जीवन शैली थी.

हमने अपनी जीवन शैली को जटिल बना दिया है और हमारे भोजन में मिलावट हृदय रोग की समस्या का एक अन्य कारण है.

हृदय रोग होने के पीछे व्यक्ति की जीवनशैली काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.

अगर हम अपनी जीवनशैली और दैनिक दिनचर्या में थोड़ा सा परिवर्तन कर सकें तो हृदय रोग का ख़तरा आसानी से टल सकता है.

ये भी पढ़ें:हाई ब्‍लड प्रेशर के संकेत

सारे विश्व में करीब 10 लाख लोग हृदय रोग की समस्या से गंभीर रूप से ग्रस्त होते हैं, और इनमें से 85% लोगों की मृत्यु भी हो जाती है.

शोध से साबित हुआ है कि कोरोनरी हृदय रोग, मौत का काफी बड़ा कारण बनती है.

हृदय रोग के महत्वपूर्ण कारणों में कुछ प्रमुख हैं धूम्रपान, शराब पीना, शारीरिक गतिविधियों में कमी और तनाव है.

दिल के स्वास्थ्य के लिये कुछ अच्छी आदतें अपनाए

डॉक्टर दिल के स्वास्थ्य के लिये जीवनशैली कुछ अच्छी आदतें अपनाने को कहते हैं.

व्यायाम हृदय को फिट रखने का एक बढ़िया तरीका है.

अगर आप बहुत कठिन शारीरिक श्रम नहीं कर सकते.

तो आप 30 मिनट का समय निकालें और पसीना निकालने के लिये व्यायाम करें।

एक सप्ताह में लगभग 5 दिनों के लिए तेज चलना आपके लिये बेहतर होगा.

यह आवश्यक नहीं है कि आप ज़िम में जाकर कठिन शारीरिक व्यायाम करें.

व्यायाम शुरू में थोड़ा थोड़ा करें और धीरे धीरे इसमें अधिक समय को दे और पसीना निकालें.

धूम्रपान हृदय रोग का एक अन्य कारण है इससे कैंसर हो सकता है, इसलिये पूरी तरह से धूम्रपान छोड़ दें.

एक सप्ताह में लगभग 5 दिनों के लिए तेज चलना बेहतर

तंबाकू दिल की धमनियों को सकरा करने के लिये जिम्मेदार है. दिल का दौरा पड़ने का यह प्रमुख कारण होता है.

शुरू में आपनी आदत को बदलने के लिये कम निकोटीन सिगरेट या ई सिगरेट का प्रयोग कर सकते हैं.

लंबे समय तक इसका प्रयोग भी बहुत ही जोखिम भरा हो सकता है.

सामान्य से अधिक वजन कई घातक बीमारियां का कारण होता हैं.

इन घातक बीमारियों में से एक हृदय रोग है जो अधिक वजन के कारण हो सकता है.

एक अनुसंधान के अनुसार, यदि आपका वजन एक साल में एक किलो बढ़ता है.

तो हृदय रोग का जोखिम कभी भी कम नहीं होगा.

यह महत्वपूर्ण होगा कि आप नियमित आधार पर बीएमआई (BMI) मापें और ऊंचाई के हिसाब से वजन को नियंत्रित करके फिट और स्वस्थ रहें.

ज़्यादातर लोग स्वास्थ्य के नहीं बल्कि स्वाद के भोजन करतें है.

यही कारण है कि ज़्यादातर लोग दिल की बीमारी के शिकार होते हैं.

ज़्यादातर लोग तले और कुरकुरे खाद्य पदार्थों का सेवन करना पसंद करते हैं, जो अस्वास्थ्यकर और सैचुरेटेड वसा से युक्त होते हैं.

लोगों को इस प्रकार का भोजन त्याग कर स्वास्थ्यपर खानपान करना चाहिए, जिसके अंतर्गत हरी पत्तेदार सब्ज़ियां, विटामिन्स, फाइबर्स आदि मुख्य हैं.

नियमित रूप से ध्यान करके व्यक्ति तनाव मुक्त हो सकता हैं.

ध्यान व्यक्ति को तनाव से कोसों दूर रखता है.

इसके अलावा यह दिल की कई प्रकार की कोरोनरी समस्याओं के आसपास भी फटकने नहीं देता है.

यह एक काफी अच्छी आदत है ,ध्यान करने के फलस्वरूप व्यक्ति हर तरह की मानसिक और शारीरिक चिंता से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here